Home » News » Crime » घर में घुसकर गोली मारकर की गैंगस्टर की हत्या

घर में घुसकर गोली मारकर की गैंगस्टर की हत्या

पांच मामलो में आरोपी था कत्ल किया गया गैंगस्टर

गढ़शंकर/सैलाखुर्द(गुरबिंदर सिंह),7 सितंबर:- होशियारपुर के कस्बा गढ़शंकर के से गढ़शंकर-सैलाखुर्द मार्ग पर पड़ते गांव सतनौर में वीरवार दोपहर बीरमपुर रोड पर रोहित कुमार उर्फ काका शिकारी की गैंगवार में उसके दोस्त के घर हत्या कर दी गई। उसे मारने के लिए 7 लोग हरे रंग की अस्टीम कार में आए थे। 2 लोग, जिनके पास पिस्टल थे घर में घुसे और बैड पर लेटे हुए काका शिकारी पर गोलियां चलाई जबकि 5 लोग बाहर रुक गए। एक गोली उसकी गर्दन से होते हुए छाती पर और दूसरी गोली सिर पर लगी और बाद में हस्पताल ले जाते वक्त रास्ते में उसकी मौत हो गई।मरने से पहले उसने गोलियां मारने वाले लाडी गैंग के लवप्रीत उर्फ लाडी व बंटा नाम के दो गैंगस्टरों का नाम लिया।
2 अंदर गोलियां चला रहे थे, 5 बाहर हाथों में पत्थर लिए खड़े थे
हमलावरों ने हत्या से पहले गांव सतनौर की उस गली का चक्कर लगाया, जिसमें काका अपने दोस्त विपन के घर में छुपा हुआ था। चक्कर लगाते वक्त उनको इस बात का अंदाजा हो गया था कि आगे गली तंग होने की वजह से वह भाग नहीं सकेंगे।
इस लिए वह गाड़ी वापिस लेकर गांव के टी-प्वाइंट पर चले गए और वहां पर गाड़ी खड़ी कर हाथों में पिस्टल लिए चल कर विपन के घर तक पहुंचे। 5 लोग जिनके हाथों में पत्थर उठाए हुए थे, वो घर के बाहर रुक गए और 2 लोग घर में घुसे और बैड पर लेटे हुए काका को गोलियां मार दी। गोलियां मारने के बाद बड़े आराम से आरोपी गाड़ी तक आए। उनके हाथ खून से लथपथ थे। हो सकता है कि उन्होंने गोली मारने के बाद हाथापाई भी हो।
किसी ने नहीं उठाया शिकारी को, डीएसपी अपनी गाड़ी में ले गए हस्पताल
जब आरोपी हत्या करने के लिए गांव में जा रहे थे तो कुछ लोगों ने हाथ में पिस्टल देख डीएसपी राज कुमार को फोन पर सूचना दी थी। लेकिन जब तक डीएसपी वहां पहुंचते आरोपी वारदात कर फरार हो चुके थे। दो दिन से यहां ठहरे काका को गांव के किसी भी आदमी ने उठाया नहीं और वह तड़पता रहा। बाद में डीएसपी राज कुमार उसे अपनी गाड़ी में डाल कर उसे गढ़शंकर ले गए और रास्ते में ही काका ने लवप्रीत और बंटा का नाम ले लिया और उसकी मौत हो गई।
वारदात से 10 मिनट पहले घर से निकल गया विपन
काका शिकारी जिस दोस्त विपन के घर वह ठहरा हुआ था, वह हत्या से 10 मिनट पहले ही घर से निकल गया। उसके पिता परमजीत सिंह से बात करने पर पता चला कि विपन भी गलत संगत में पड़ चुका है। वहीं पर इस बात पर सवाल खड़ा हो गया है कि विपन को इस हमले की आशंका थी, जिसके चलते वह घर से निकल गया। या फिर कहीं विपन ने ही हमलावरों को जानकारी दी हो। मौके से पुलिस को काका के बैग से पिस्टल बरामद हुए जिसे पुलिस अपने साथ ले गई। विपन के बारे में बताया जा रहा है कि उसका भी कोई पक्का ठिकाना नहीं है। उसका पिता परमजीत मजदूरी करता है और बाकी परिवार जिसमें भाई, मां, बहन है, जोकि चंडीगढ़ रहते हैं। विपन भी अब फरार हो गया है।
पांच मामलो में आरोपी था काका शिकारी
काका पर 5 मामले गढ़शंकर और नवांशहर में दर्ज थे, जिसमें 2 मामले गोली चलाने के थे। 4 महीने पहले नवांशहर-गढ़शकंर रोड पर पैट्रोल पंप के पास बाइक सवार 3 लोगों पर काका ने गोलियां चलाई, जिसमें 1 गोली लवप्रीत लाडी को लगी। 2 सितंबर को काका ने जतिंदर कुमार पर भी गढ़शंकर में गोली चलाई थी। इन आपराधिक मामलों में काका फरार था, पुलिस उसे ढूंढ रही थी और वह पुलिस के हाथ नहीं आ रहा था लेकिन पुलिस के नैटवर्क को मात देते हुए लवप्रीत सिंह ने अपने दुश्मन काका शिकारी को ढूंढ कर उसका शिकार कर दिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*